ek aam aadmi

Today a common man does not have a value in society and face problem on every step.

Here, Poet is describing the situation of a common man in life through his poem “Ek Aam Aadmi



जब भी कोई मुझसे पूछता है
कि कौन हो तुम ?
तो मैं कहता हूँ की आम आदमी !

रोज़ी रोटी की फ़िराक़ मेँ फिरता हूँ मारा मारा
कोई कहता है आवारा तो कोई बेचारा

लेकिन फिर भी नहीं रुकता मेँ
क्योंकि पेट भरना तो है लाजमी,
मैं हूँ आम आदमी . .

जब भी कोई मुझसे पूछता है
कि कौन हो तुम ?
तो मैं कहता हूँ की आम आदमी !

जो इस देश की सत्ता मेँ भागीदर है
कहने को उसके पास 6 मौलिक अधिकार है
फिर भी यूँ घुट घुट कर जीने को लाचार है
कदम कदम पर सहता कितने अत्याचार है

क्योंकि जिन्दा रहना तो है लाज़मी
मैं हूँ आम आदमी . .

जब भी कोई मुझसे पूछता है
कि कौन हो तुम ?
तो मैं कहता हूँ की आम आदमी !

=====================================*************================================

Also Read:

http://shayaribazaar.com/kabhi-kabhi-mere-dil-mein-sahir-ludhianvi-poetry/

http://shayaribazaar.com/saans-lena-bhi-kaisi-aadat-hai/

http://shayaribazaar.com/sarfaroshi-ki-tamanna-by-bismil-azimabadi/

http://shayaribazaar.com/koi-deewana-kehta-hai-by-kumar-vishwas/



Written By: Hari Shankar

======================================Thanks for visit==============================

If you like this post ,

please leave your valuable comments and suggestion in the below mention sections.

and like and visit our “Facebook page” https://www.facebook.com/shayaribazaar for other best hindi shayaris and latest posts.

Add Comment