Love messages for boy & girl friend in hindi | हिंदी लव मैसेज

अपने प्रेम का इजहार हर प्रेमी कुछ अलग तरीके से करना चाहता है, वो चाहता है के उसका महबूब या लवर उसके मोह्हबत के इजहार को सुन कर उससे प्रभावित हो जाये और उसे उसके प्यार पर विश्वास और भरोसा बढे, क्युकी एक दूसरे पर विश्वास होना ही प्रेम की नीव होती है और यु कहें की विश्वास और एक दूसरे पर भरोसा ही प्यार रुपी ईमारत का आधार है |
इस पोस्ट में आप पढ़ेंगे “Love messages for boy & girl friend in hindi | हिंदी लव मैसेज”

कुछ तो मेरे दिल के,जख्म इतने गहरे थे। उन पर भी लगे ,मेरे अश्को के पहरे थे।
तेरे ठुकराने के बाद तो,मरना ही था मुझको। क्योंकि हम दुनिया मे,तेरे लिए ही ठहरे थे।

हर ख़्वाब तूने मेरा, चूर कर दिया। दीवाने को मारने पर मजबूर कर दिया ।
जिसमे खुद को देखकर , जीता रहा अब तक। मुझसे मेरा वो आइना,ही दूर कर दिया।

दिल अश्क बहाता है,जब तेरी याद सताती हैं।
जब अरमान पूरे न हो तो ,फरियाद सताती हैं।
जब तन्हा हूँ, कोई नही जो सुने शेयर मेरे।
जब शेयर लिखता हूँ तो , तेरी याद सताती है।

जुनून ए इश्क़, में साथ हमारे। वारदात कुछ ,अजीब हुई ।
ज़िन्दगी को तो ,जी न सके । मौत भी न ,हमे नसीब हुई।

एक तेरे प्यार, की तमन्ना थी। ख्वाइश ये भी, पूरी न हो सकी।
जमाने को ठुकराया , तेरी खातिर। तू फिर भी मेरी , न हो सकी।

हम बनते जो तुम्हारे, तक़दीर को शायद मंजूर न था।
दोष दूँ मैं किसको, किसी का जब कसूर न था।

फाड़ देना खत, कोई किताब समझकर। अब मुझे भूल जा , तू ख्वाब समझकर।
कल गर मैं न रहा तो, आकर मैय्यत पे। चढ़ा के चादर कर्ज उतारना , हिसाब समझकर।

अपने ही हाल पे ,रोता हूँ मैं। जख्म दिल के, यूँ पिरोता हूँ मैं।
कौंन रोएगा अब ,मुझे याद करके। भला कौन किसी का ,क्या होता हूँ मैं।

तेरी वफ़ा पे, ए सनम। मुझको कतई, शक नही।
जब से बनी तुम , रकीबो की। रहा दीवाने का, हक नही।

मेरी मैय्यत पर,अश्क बहाना छोड़ दे। जा जाकर तू खुशियो को अपनाले।
मुझ बदनसीब के ,मुक़द्दर मे थी मौत । किसी खुशनसीब को, तू ज़िन्दगी बना ले।

फिजूल मे वक़्त, बर्बाद न करना। तुम मुझको अब,याद न करना।
जुदा हुए हम, खुदा की रज़ा से मिलाने की उससे, फरियाद न करना।

न चाहते हुए भी, तुम मुझे भुला देना। नाम मेरा हो सके, जेहन से मिटा देना।
न मिलने दिया हमे, जिन दुश्मनो ने। उनको भी ,सलामती की दुआ देना।

क्या कुछ न किया ,मैंने तेरे प्यार में। फना कर दी ज़िन्दगी, मुहब्बत के व्यापार मे।
मर गए हम तो,क्या हुआ मेरे सनम। आँखें हैं खुली,तेरे खत के इंतज़ार मे।

खुद से ज्यादा मैं सनम,तुझसे प्यार करूँ। समझ नही आता ,सामने तेरे कैसे इजहार करूँ।
कलम कागज उठाकर,मैं खुद लिख डालूँ। या तेरे हाथोँ से ,लिखे खत का इंतज़ार करूँ।

मुझे उजाड़कर , मनाये जस्न सबने। मेरा बसना दुनिया को,गवारा न था।
खैर यही सोचकर, हम मर गए यारो। जो छिन गया ,वो जीवन हमारा न था।

Love messages for boy & girl friend in hindi

बनाकर अपना मुझे,याद करने वाले। भूलकर भी न मुझे,याद करने वाले।
मेरी खता तो ,पहले बता दी होती। मेरी रूसवाई, मेरे बाद करने वाले।

खड़े रहे हाथों में,बर्बादी का सामान लिए हुए। मर गए हम दिल में , जीने का अरमान लिए हुए।
मेरी तुरबत पे आये भी ,तो वो अब क्यों आये। हमारी की हुई बफाओ का ,इनाम लिए हुए।

लाख हम पर सितम किये, एक तेरी जुदाई ने।
उस पर खुदा का सितम ,न मौत दी हरजाई ने।
कुछ तेरी यादो ने,कुछ दुनिया ने छीना चैन करार।
बाकी बची हसरत को, मिटाया तेरी शहनाई ने।

गुजार दी तमाम उम्र,हमने तेरे इंतज़ार में। क्या क्या नही किया ,हमने तेरे प्यार में।
मेरी गरीबी का बनाकर मजाक, तुम अमीरो ने। बदल दिया मेरा ,पाक प्यार व्यापार में।

कितनी शान से वो मेरी ,बर्बादी का जस्न मनाते है।
अपने हाथों से दोस्त ,खुद ही हमको मिटाते हैं।
मगर ये क्यों भूल गए ,साथ मेरे वो भी होंगे रुसबा।
क्योंकि नाम उनका भी है,शामिल किस्सा जो वो बताते हैं।

मैंने तुझको ,क्या समझा। तूने मुझको,क्या समझा।
मैं था बफाओ,का रिश्ता। मगर तूने, बेवफा समझा।

जब गम दिल को खुद ,गमखार दे जाए । फूलों के बदले में,जहरीले खार दे जाए।
क्या करोगे तुम ही बतलाओ, गैरों पे भरोसा। जब धोखा खुद अपने ही ,मदददगर दे जाए।

जिस पर हम मर मिटे, उसने हमे मिटा दिया।
वाह क्या खूब उसने,मुहब्बत का सिला दिया।

एक तेरी खातिर ,परेशान हूँ मैं। टूटे दिलो की , जुबां हूँ मैं।
तूने ठुकराया, जिसको अपनाकर। उसी दीवाने का ,गुमां हूँ मैं।

थम गए अश्क मेरे,बहते बहते। सूख गए वो, यही कहते कहते।
मेरी मानो ,कभी मुहब्बत न करना। यही सीखा आँखों मे, रहते रहते।

बनाकर अपना मुझे,याद करने वाले। भूलकर भी न मुझे,याद करने वाले।
मेरी खता तो ,पहले बता दी होती। मेरी रूसवाई, मेरे बाद करने वाले।

पैन लिया कागज लिया,औऱ ली किताब।उठाकर जज्बात दिलके,लिख दिया जवाब।
आपके खत की राह,सदा देखते रहेंगे हम। देखना कही मेरे अरमान,बन न जाए ख्वाब।

जब हम तुम्हे ,याद करते हैं तो अक्सर। एक हाथ कलम पे,एक हाथ दिल पे होता हैं।
भला तुम्हे क्या खबर,उस पल में हमसे। जज्बातो पे काबू ,कितनी मुश्किल से होता है।

तूने मुझको पूरी तरह, ठुकराया नही है। तू भूल गयी, तेरे दिल ने भुलाया नही है।
जब भी जी चाहे आ जाना,हम तेरे ही है। दिल मेंअब तक ,कोई भी बसाया नही है।

तुझको याद करके रोता है,अब दीवाना तेरा। जो न भूल पाएगा, कभी भी ठुकराना तेरा।
तुम हमे भूल जाओ शायद,ये फितरत है तेरी। मुश्किल है हमारे लिए, प्यार भुलाना तेरा।

रूठ कर जो हमसे यूँ , मुँह मोड़ लेते हो। खुद ही गमो से रिश्ता, जोड़ लेते हो।
कभी करके गुफ्तगू,बाट लिया करो गम। क्यों गमो का दामन,खुद पे ओढ़ लेते हो।

तेरे कूचे पे आकर ,मन को सुकून मिला है। मेरी मुहब्बत को औऱ भी,जुनून मिला है।
वेरंग मेंहदी को छोड़कर,यह मेहंदी लगाना। क्योंकि इस मेहंदी में, मेरे दिल का खून मिला है।

प्यार करने वालों को, गुमान नही होता । भले उनका इस दुनिया में, मान नही होता।
रहे उम्र भर दिल में,महबूब का चेहरा। महबूब इनके दिल का मेहमान नही होता।

अब हर गम तेरा,अपना लूंगा मैं। खुशियां तेरे कदमो में,बिछा दूँगा मैं।
साथ तेरा रहा तो,देखेगा जमाना। दुनियाँ को भी, एक दिन झुका दूँगा मैं।

तू खुश होगी अमीर होकर, मैं गुरबत का मारा हूँ।
तू जीत गई बाजी वफ़ा की,मैं मुहब्बत को हारा हूँ।
तूने एक बार भी न सोचा, क्या हाल होगा दीवाने का।
तू चली गई बनकर दुल्हन, देख मैं अब भी कुंवारा हूँ।

न वो आम रहे,न हम खास रहे। जाने क्यों आँसू पीकर,भी हम प्यासे रहे।
सारी दुनिया मुस्कुराती है,दोस्तो मगर। दिल हमारा हमेशा ही, उदास रहे।

मैं हर सजा को, अपना लूँगा। मौत से भी अब,निभा लूंगा।
ज़िन्दगी जीना हैं कैसे, तेरी तू जाने। तुझको उम्रे दराज़ की , मैं दुआ दूंगा।

जब कोई अपना,हमसे दूर हुआ। दिल हमारा तब, चकना चूर हुआ।
उसे रोक नही सकता, रो सकता हूँ। दीवाना आज इतना, मजबूर हुआ।

लिखा आता है ,तुम्हारी हर तहरीर में। भूला दो मुझको ,मैं नही तेरी तक़दीर में।
कैसे भुला दूँ तुझको,अब तू ही बता। तू तो बंधी है,मेरी साँसों की जंजीर में।

भूल की थी मैंने जो दिल लगाया ,सनम हरजाई के साथ।
दिल टूटने के बाद रोता रहा , मिलके अपनी परछाई के साथ
ये मत सोचना तेरी डोली के बाद, हमारा क्या होगा यहाँ।
जनाजा मेरा भी निकलेगा ,तेरे माफिक शहनाई के साथ।

मेरे दिल पर बिजलियाँ , गिराया न करो। अपने हुस्न से नक़ाब ,उठाया न करो।
वरना हम मंजिल ही , भूल जाएंगे सनम। जाल जुल्फों के साहिल, पे बिछाया न करो।

किसी की यादो में,क्यों अपना वक़्त बर्बाद करे। जो हमे भुलाये बैठे है, हम क्यों उन्हें याद करे।
यू दर दर भटकने से, तड़पने से क्या मिलेगा।
इससे बेहतर है क्यों न हम भी ,अपना जहाँ आबाद करे।

आँखों से बनाये रखते हैं, मयखाना प्यार का। फिर भी मैं हूँ दोस्तो, दीवाना प्यार का।
दो मतवाले जब भी,प्यार करते है कभी। दुश्मन हो जाता है,क्यों जमाना प्यार का।

मायूस दिल पे ठेस ,लगाया न करो। ऐ दोस्त इतना भी ,सताया न करो।
पहले ही से हिजर की, आग में जलते हैं। गम की आग में, हमे जलाया न करो।

कौन किसी का होता हैं, इस जमाने में। लोग खुश हैं,हम दीवानो को मिटाने में।
जिन चिरागों ने किया, घर रोशन मेरा। आंधियो ने दिया साथ वो , चिराग भुजाने में।

तेरी याद में देख,अब भी जिंदा हूँ मै। तुझपे नही, अपनी वफ़ा पे शर्मिंदा हूँ मैं।
पंख काट कर कैद कर दिया ,गम के पिजरे में। मुहब्बत की दुनिया का ,एक परिंदा हूँ मैं।

Read More Love messages for boy & girl friend in hindi | हिंदी लव मैसेज

Thanks for visit, Shayaribazaar
If you like this post ,
Please leave your valuable comments and suggestion in the below mention sections.

Add Comment